Thursday, 19 January 2017

उम्मीद का धागा - मुक्ता

मैंने कई सालों से बांध रखा है उम्मीद का एक धागा 
तुम्हारे प्रेम की डोर से ,
ना तो उस धागे में ज्यादा कसावट रखी
कि कभी टूट जाने का डर लगे 
और ना ही इतना ढीला छोड़ा कभी ,
कि एहसास ही ख़त्म हो जाए मेरे होने का ।

बस बांध रखा है संतुलित सा 
ताकि मन के किसी कौने में उम्मीद बंधी रहे
ख्वाहिशों के सच होने की ,
सपनों के खाली केनवास में  
प्रेम रंग के बिखर जाने की ,

ना जाने कितनी ही दफा तुझे पाने के लिए दुआ में हाथ उठाए
उन दुआओं के कबूल होने की ,
चारदीवारी में कैद है जो इश्क़ 
उस इश्क़ के मुक़म्मल होने की ,
दो जिस्म जो बंटे हुए 
समाज की बंदिशो में 
धर्म और रीतियों की बेड़ियो में 
दो रूह जो कभी बिछड़ी नहीं 
उनके एक होने की ।

बस मेरी उम्मीद का ये धागा टूटे नहीं 
बस मेरी उम्मीद का ये धागा कभी टूटे नहीं ।


               ------- मुक्ता भावसार